पन्नीरसेल्वम के पक्ष में आए और सांसद, शशिकला कर रहीं विधायकों को एकजुट

Loading the player...

Sasikala accuses Governor of delaying proceedings to form govt

Last updated : 12 February, 2017 | Top News

अन्नाद्रमुक महासचिव वीके शशिकला के साथ कुर्सी की लड़ाई में उलझे तमिलनाडु के कार्यवाहक मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम के पक्ष में समर्थन बढ़ता जा रहा है। रविवार को पांच और सांसदों ने उनका समर्थन किया। लोकसभा के चार सदस्यों जयसिंह त्यागराज नाटेरजी (तूतीकोरिन), सेंगुटुवन (वेल्लोर), आरपी मुरूतराजा (पेरम्बलुर) और एस. राजेन्द्रन (विल्लुपुरम) ने ग्रीनवेज स्थिति पन्नीरसेल्वम के आवास पर उनसे भेंट कर उन्हें अपना समर्थन दिया। इसके साथ ही कुर्सी की लड़ाई में अभी तक कुल 10 सांसद पनीरसेल्वम के पक्ष में आ गए हैं।

राज्यसभा सदस्य आर. लक्ष्मणन भी पाला बदलकर पन्नीरसेल्वम के साथ खड़े हो गए हैं। इससे नाराज शशिकला ने उन्हें पार्टी के विल्लुपुरम (उत्तरी) प्रमुख के पद से हटा दिया है। अपने शपथ-ग्रहण पर मौजूदा अनिश्चितता के बीच शशिकला अपने खेमे को एकजुट रखने में जुटी हुई हैं। हालांकि सांसद लगातार उनके विरोधी खेमे से जुड़ रहे हैं। आज शशिकला ने चेन्नई के बाहर एक रिसॉर्ट में पिछले दो दिनों से ठहरे विधायकों से भेंट की।

रिसॉर्ट जाने से पहले शशिकला ने दिवंगत नेता जे. जयललिता के पोस गार्डन स्थित आवास पर पत्रकारों से कहा कि महिला के लिए राजनीति में रहना ‘बहुत मुश्किल’ है। शशिकला ने उनके नाम से राज्यपाल सी विद्यासागर राव को भेजे गए ‘फर्जी पत्र’ की प्रति भी दिखायी, जिसमें कथित तौर पर उन्होंने सरकार नहीं बनाने देने पर आत्महत्या की धमकी दी है।

अन्नाद्रमुक प्रमुख ने कहा, ‘मेरे नाम का एक फर्जी पत्र सोशल मीडिया में चल रहा है, एक मित्र ने मुझे इसकी सूचना दी। आपको (मीडिया) भी यह देखना चाहिए। एक महिला के लिए राजनीति में होना बहुत मुश्किल है। पुराची तलवै के समय में भी ऐसी ही देखा गया था, लेकिन वह इससे लड़कर आगे बढ़ीं।’ शशिकला ने कहा कि उन्होंने पार्टी संस्थापक दिवंगत एम. जी. रामचन्द्रन की मृत्यु के बाद अन्नाद्रमुक में ऐसी ‘घबराहट’ देखी थी, लेकिन जयललिता ने पार्टी को बहुत तरीके से चलाया और सुनिश्चित किया कि पार्टी लगातारी दूसरी बार जीतकर सत्ता में आए।

शशिकला ने कहा, ‘तभी से पार्टी को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। उस दौरान जिन्होंने इसका प्रयास किया था, वही आज भी कर रहे हैं।’ उन्होंने अपनी इस टिप्पणी में पन्नीरसेल्वम का अप्रत्यक्ष हवाला दिया जो उस वक्त एमजी रामचन्द्ररन की पत्नी जानकी के नेतृत्व वाले धड़े के साथ थे। उस वक्त अन्नाद्रमुक जयललिता और जानकी दो धड़ों में टूट गयी। शशिकला का दावा है कि पार्टी के विधायक उनके समर्थन में हैं।

इसके अलावा AIADMK महासचिव शशिकला ने राज्यपाल सी विद्यासागर राव पर गंभीर आरोप लगाए हैं। शशिकला ने कहा है कि राज्यपाल उनके शपथ ग्रहण में जानबूझकर देरी कर रहे हैं ताकि पार्टी में फूट पड़ सके। शशिकला के नेतृत्व में AIADMK आज प्रदर्शन करेगी। इससे पहले शशिकला ने शनिवार को गोल्डन बे रिज़ोर्ट में विधायकों से मुलाकात की। कल गोल्डन बे रिज़ोर्ट में पहुंचे मीडियाकर्मियों पर जमकर पत्थरबाज़ी भी हुई।

देखा जाए तो तमिलनाडु की राजनीति में उथल-पुथल का दौर जारी है। AIADMK के 4 सासंदों  पीआर सुंदरराम, के अशोक कुमार, वी सत्याबामा और वनारोजा ने पन्नीरसेल्वम को समर्थन का ऐलान किया है। इसके अलावा तमिलनाडु के शिक्षामंत्री के. पांडियाराजन और पूर्व मंत्री एए राजेंद्र प्रसाद भी पाला बदलकर कार्यवाहक मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम के समर्थन में आ गए हैं। 

Read More

related stories