शशिकला के खिलाफ़ बगावत, पन्नीरसेल्वम बोले, ‘ज़बरदस्ती लिया गया इस्तीफा’

Loading the player...

I was forced to tender resignation: TN CM O.Panneerselvam

Last updated : 7 February, 2017 | Political

तमिलनाडु कार्यवाहक सीएम पन्नीरसेल्वम ने शशिकला के खिलाफ बगावत कर दी है। पनीरसेल्वम ने कहा कि उनसे जबरदस्ती इस्तीफा लिया गया है। शशिकला ने पार्टी को हथिया लिया है। सबको हैरान करते हुए पनीरसेल्वम जयललिता के मेमोरियल पर श्रद्धांजलि देने पहुंचे। पन्रीरसेल्वम आंख बंद कर जमीन पर योगमुद्रा में बैठे रहे। करीब 40 मिनट तक वो समाधि के पास बैठे रहे। इसके बाद वो उठे और आंखों से आंसू पोंछे।

इसके बाद पनीरसेल्वम ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जयललिता की समाधि पर इसलिए गया क्योंकि मेरी आत्मा मुझे झकझोर रही थी। पनीरसेल्वम ने कहा कि उन्हें अपनी पार्टी और राज्य को बचाना है। जयललिता की आत्मा ने मुझे सच बोलने की प्रेरणा दी है। उन्होंने कहा कि पार्टी फोरम में बात रखने की कोशिश की, लेकिन किसी ने उनकी बात नहीं सुनी। पनीरसेल्वम ने कहा कि किसी भी बड़े फैसले के लिए तैयार रहिए।

यह भी पढ़ें: AIADMK के 40 विधायक बागी, शशिकला की ताजपोशी पर सस्पेंस: तमिल अखबार

क्या बोले पन्नीरसेल्वम?

पन्नीरसेल्वम ने कहा कि उन्हें पद छोड़ने के लिए मजबूर किया गया। उन्होंने कहा, जब अम्मा अस्पताल में थीं, तो मैंने उनसे पूछा था, तब अम्मा ने मुझे सीएम बनने के लिए कहा था।

शशिकला की सीएम दावेदारी को लेकर तमिलनाडु की राजनीति में मचे बवाल पर पहली बार कार्यकारी सीएम पन्नीरसेल्वम ने सार्वजनिक बयान दिया। पन्नीरसेलवम ने कहा, जब मैं मुख्यमंत्री था, तो राजस्व मंत्री आरबी उदय कुमार ने कहा कि शशिकला को सीएम बनना चाहिए। मुझे सीएम पद दिया तो गया लेकिन मेरा लगातार अपमान किया गया। शशिकला के घर पर पार्टी के सीनियर नेताओं की मौजूदगी में जब शशिकला के मुख्यमंत्री बनने का सवाल आया, तो मैंने पूछा कि यह कहां तक जस्टिफाइड है।

पन्नीरसेल्वम ने कहा, पार्टी के नेताओं ने कहा कि "मुझे शशिकला को मुख्यमंत्री बनाने की पहल करनी पड़ी, क्योंकि मुझे इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया। मैं ये बातें इसलिए बता रहा हूं ताकि जनता को सभी चीजें साफ हों, मैं अपनी लड़ाई जारी रखूंगा। अगर पार्टी कार्यकर्ता और लोग मुझसे कहेंगे, तो मैं अपना इस्तीफा वापस ले लूंगा।"

गौरतलब है, पिछले साल 5 दिसंबर को जयललिता की मृत्यु के बाद AIADMK नेता पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली थी। कई नाटकीय घटनाक्रमों के बाद उन्होंने रविवार को जयललिता की करीबी रहीं वी के शशिकला के लिए कुर्सी छोड़ दी। शशिकला दावा कर रही थीं कि यह पन्नीरसेल्वम की इच्छा था कि वह उनकी जगह पार्टी सुप्रीमो और सीएम की कुर्सी संभालें, लेकिन पन्नीरसेल्वम ने खुद इस विषय में अब तक सार्वजनिक रूप से कुछ नहीं कहा था। उधर, जयललिता की भतीजी दीपा जयकुमार भी शुरू से ही शशिकला को पार्टी की कमान और मुख्यमंत्री पद सौंपने के खिलाफ रही हैं।

Read More