Loading the player...

12:45 PM : यूपी कांग्रेस प्रभारी गुलाम नबी आजाद का लखनऊ दौरा रद्द हो गया है। अब गुलाम नबी आजाद लखनऊ नहीं आएंगे। आज एसपी से कांग्रेस गठबंधन का औपचारिक ऐलान होना है। यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर लखनऊ पहुंच रहे हैं।

10:52 AM: कांग्रेस और समाजवादी पार्टी में गठबंधन का आज लखनऊ में औपचारिक ऐलान हो सकता है। सूत्र बताते हैं कि समाजवादी पार्टी 300 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी, जबकि कांग्रेस के खातों में 100 सीटें आएंगे। दोपहर 12 बजे इसका औपचारिक ऐलान हो सकता है। आरएलडी से कांग्रेस और एसपी की बात नहीं बनी। अब जबकि ये साफ है कि गठबंधन सिर्फ कांग्रेस और एसपी के बीच होगा ऐसे में सवाल ये है कि ये गठबंधन बीजेपी को कितनी टक्कर दे पाएगा।

क्या एसपी-कांग्रेस का गठबंधन बीजेपी को रोक पाने में कामयाब होगा?

  • दरअसल, 2014 के चुनाव में बीजेपी ने 42.7 फीसदी वोट की बदौलत यूपी की 80 में से 71 सीटें अपने नाम की थीं।
  • इस हिसाब से सूबे के 403 विधानसभा क्षेत्रों में से 328 पर बीजेपी आगे रही थी।
  • जबकि 2014 में एसपी को 22.7 फीसदी और कांग्रेस को 7.5 फीसदी वोट मिले थे।
  • एसपी ने कुल 5 सीटे जीती थीं यानी उसे 42 विधानसभा क्षेत्रों में बढ़त मिली।
  • जबकि कांग्रेस ने सिर्फ 2 सीटें जीती थी यानी 15 विधानसभा क्षेत्रों में बढ़त मिली।

लेकिन पिछले करीब 3 साल में काफी पानी बह चुका है। 2014 और 2017 के सियासी हालात एकदम जुदा हैं।

  • 2014 का चुनाव मोदी के चेहरे और राष्ट्रीय मुद्दों पर लड़ा गया था।
  • लेकिन 2017 का चुनाव यूपी के मुद्दों और अखिलेश के चेहरे पर लड़ा जा रहा है।
  • मोदी सरकार के कामकाज से असंतुष्ट लोग भी अब अखिलेश के साथ खड़े होंगे।
  • एसपी का दूसरा गुट चुनावी मैदान में नहीं है इसलिए मुस्लिम वोटर भी बंटेगा नहीं।
  • बीजेपी ने OBC को ज्यादा टिकट दिए है जिससे अपर कास्ट कांग्रेस की तरफ आए है।

साफ है कि एसपी और कांग्रेस का गठबंधन तभी कामयाब होगा जब एसपी अपने कोर वोट बैंक यानी यादव, मुस्लिम और पिछड़ी जातियों पर पकड़ बना कर रखे। जबकि कांग्रेस मुस्लिम, दलितों के एक वर्ग और अपर कास्ट का समर्थन किसी भी हाल में हासिल करें।

Read More
Banner AAP KA BHAVISHYA 2017
Banner AAP KA BHAVISHYA 2017